Article 319 In Hindi – Article 319 Of Indian Constitution In Hindi

इस पोस्ट मे आपको Article 319 Of Indian Constitution In Hindi के बारे मे बताया गया है। अगर आप Article 319 In Hindi कि जानकारी चाहते हैंतो इस पोस्ट मे मैने इसकी पूरी जानकारी दी है।

अनुच्छेद हमारे भारत के संविधान मे दिया गया है, जिसके द्वारा ही हमारे भारत देश की रूप रेखा तैयार की गई है। तो इसमे आपको Article 319 के बारे मैने पूरी जानकारी देने का प्रयास किया है, जिससे कि आपको ये अच्छे से याद हो जाए। भारत के हर व्यक्ति को Indian Constitution Articles के बारे मे जानकारी होनी ही चाहिए। क्योंकि यह हमारे देश का एक महत्वपूर्ण भाग है।

Article 319 In Hindi

अनुच्छेद 319 – आयोग के सदस्यों द्वारा ऐसे सदस्य न रहने पर पद धारण करने पर प्रतिषेध।
पद छोड़ना बंद करने पर
(ए) संघ लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष भारत सरकार या किसी राज्य की सरकार के तहत आगे के रोजगार के लिए अपात्र होंगे।
(बी) एक राज्य लोक सेवा आयोग का अध्यक्ष संघ लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष या किसी अन्य सदस्य के रूप में या किसी अन्य राज्य लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष के रूप में नियुक्ति के लिए पात्र होगा, लेकिन किसी भी अन्य रोजगार के लिए नहीं। भारत सरकार या किसी राज्य की सरकार के अधीन ;.

(सी) संघ लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष के अलावा कोई अन्य सदस्य संघ लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष या राज्य लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष के रूप में नियुक्ति के लिए पात्र होगा, लेकिन सरकार के अधीन किसी अन्य रोजगार के लिए नहीं भारत के या किसी राज्य की सरकार के अधीन;.
(डी) राज्य लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष के अलावा कोई अन्य सदस्य संघ लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष या किसी अन्य सदस्य के रूप में या किसी अन्य राज्य लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष के रूप में नियुक्ति के लिए पात्र होगा, लेकिन नहीं भारत सरकार के अधीन या किसी राज्य की सरकार के अधीन कोई अन्य रोजगार।

Indian Constitution part 14 articles

Article 319 Of Indian Constitution In English

Article 319 – Prohibition as to the holding of offices by members of Commission on ceasing to be such members.
On ceasing to hold office
(a) the Chairman of the Union Public Service Commission shall be ineligible for further employment either under the Government of India or under the Government of a State;.
(b) the Chairman of a State Public Service Commission shall be eligible for appointment as the Chairman or any other member of the Union Public Service Commission or as the Chairman of any other State Public Service Commission, but not for any other employment either under the Government of India or under the Government of a State;.

(c) a member other than the Chairman of th Union Public Service Commission shall be eligible for appointment as the Chairman of the Union Public Service commission or as the Chairman of a State Public Service Commission, but not for any other employment either under the Government of India or under the Government of a State;.
(d) a member other than the Chairman of a State Public Service Commission shall be eligible for appointment as the Chairman or any other member of the Union Public Service Commission or as the Chairman of that of any other State Public Service Commission, but not for any other employment either under the Government of India or under the Government of a State.

नोट – इसमे कही सारी बाते भारतीय संविधान से है। यानी यह संविधान के ही शब्द है।

अनुच्छेद 319 मे क्या है

वाद-विवाद संक्षेप – एक सदस्य ने यह भी प्रस्ताव दिया कि विभिन्न लोक सेवा आयोगों में एक सदस्य के नियोजन की कुल अवधि 12 वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए। यह सुझाव दिया गया था कि राज्य को किसी भी सदस्य को अन्य लोक सेवा आयोगों में फिर से नियुक्त करके तरजीह देने से रोका जा सके। सदस्यों ने उपरोक्त संशोधनों को वापस ले लिया और विधानसभा ने उसी दिन मसौदा अनुच्छेद 285C को स्वीकार कर लिया।

अन्य महत्वपूर्ण अनुच्छेद

Article 316 In Hindi
Article 317 In Hindi
Article 318 In Hindi
Article 309 In Hindi
Article 310 In Hindi
Article 311 In Hindi
Article 312 In Hindi
Article 313 In Hindi
Article 314 In Hindi
Article 315 In Hindi

Final Words

आपको यह Article 319 In Hindi Of Indian Constitution की जानकारी कैसी लगी नीचे कमेंट करके जरूर बताएं। बाकी Article Of Indian Constitution से संबंधित कोई प्रश्न हो तो आप नीचे कमेंट करके पूछ सकते है।

Leave a Comment