IPC 406 In Hindi – IPC Section 406 in Hindi

दोस्तों आज के इस लेख के माध्यम से हम जानेंगे कि भारतीय दंड संहिता के तहत IPC 406 In Hindi क्या है, यह धारा कब लागू होती है? इस अपराध के मामले में सजा और जमानत कैसे मिलेगी। यदि आप इस खंड के बारे में सरल और स्पष्ट तरीके से जानना चाहते हैं तो इस लेख को पूरा पढ़ें।

क्योंकि यह हर अधिवक्ता और वकील को पता होना चाहिए और अगर आप पुलिस में हैं या आप कानून से संबंधित छात्र हैं तो आपको IPC Section 406 In Hindi के बारे में जानकारी होनी चाहिए। ताकि आप न कहीं फंसें और न ही कोई आपको वाद-विवाद में फंसा सके। तो आइए जानते हैं IPC 406 Kya Hai।

IPC 406 In Hindi

406 IPC In Hindi – आपराधिक न्यास भंग के लिए दंड।
जो कोई आपराधिक न्यासभंग करता है, उसे किसी एक अवधि के लिए कारावास जिसे तीन वर्ष तक बढ़ाया जा सकता है, या जुर्माना, या दोनों के साथ दंडित किया जाएगा।

ipc section in hindi

IPC Section 406 In English

IPC Section 406 – Punishment for criminal breach of trust.
Whoever commits criminal breach of trust shall be punished with imprisonment of either description for a term which may extend to three years, or with fine, or with both.

आईपीसी धारा 406 क्या है?

406 IPC मे आपराधिक न्यास भंग के लिए दंडके बारे मे विवरण दिया गया है। जिसमे जो कोई आपराधिक न्यासभंग करता है, उसे किसी एक अवधि के लिए कारावास जिसे तीन वर्ष तक बढ़ाया जा सकता है, या जुर्माना, या दोनों के साथ दंडित किया जाएगा।

Also Read These IPC

तो आपक IPC 406 In Hindi की यह जानकारी आपको कैसी लगी नीचे कमेंट करके जरूर बताएं, यहाँ मैने 406 IPC dhara के बारे मे पूरी जानकारी दी है, जिससे कि आपको कहीं और न जाना पड़े।

Leave a Comment